यूपीएससी तैयारी - भारत का प्राचीन एवं मध्यकालीन इतिहास - व्याख्यान - 38

SHARE:

सभी सिविल सर्विस अभ्यर्थियों हेतु श्रेष्ठ स्टडी मटेरियल - पढाई शुरू करें - कर के दिखाएंगे!

SHARE:

सैयद और लोधी राजवंश

[Read in English]


1.0 प्रस्तावना

फिरोज शाह तुगलक की मृत्यु के बाद दिल्ली सल्तनत तेजी से विखंडित हुई। जौनपुर का शर्की साम्राज्य 1394 में अस्तित्व में आया। मालवा और गुजरात भी अलग हो गए। 1398-99 में जब तैमूर परिदृश्य पर उभरा, तो तुगलक वंश का भाग्य तय हो गया था। सिंधु पार करने के बाद, तैमूर को पंजाब में किसी भी गंभीर विरोध का सामना नहीं करना पड़ा। हालांकि, दिल्ली ने बिना किसी विशेष प्रतिरोध के समर्पण कर दिया, तैमूर की सेना ने तीन दिनों तक उसे तहस नहस किया और हिंदुओं और मुसलमानों, दोनों की अंधाधुंध हत्या की। हरिद्वार, नागरकोट और जम्मू के माध्यम से यात्रा करते हुए, वह मार्च 1399 में भारत से वापस लौटा। उसका आक्रमण हालांकि केवल एक लूट और छापे के आकार का था, पर उसने तुगलक राजवंश को मौत का झटका दे दिया

2.0 सैयद राजवंश

हालांकि तैमूर के आक्रमण के बाद तुगलक राजवंश जल्द ही समाप्त हो गया, फिर भी सल्तनत बच गई। लेकिन यह अपनी पूर्व प्रतिष्ठा की एक छाया मात्र रह गई। तैमूर द्वारा नामांकित व्यक्ति ने दिल्ली पर कब्जा कर लिया और उसे नया और सैयद वंश का पहला सुल्तान घोषित किया गया (1414 ई. 1451 ई.)-जो पंद्रहवीं सदी के पूर्वार्ध तक शासन करने वाला था। उनका शासन अल्पावधि का था, और दिल्ली के आसपास के लगभग 200 मील के दायरे तक ही सीमित था।

PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test

खिज़्र खान (1414-1421): भारत से अपने प्रस्थान से पहले, तैमूर ने खिज़्र खान को मुल्तान और देपालपुर रियासतें देकर सम्मानित किया था। तैमूर के पुष्टिकरण ने खिज़्र खान की प्रतिष्ठा को बढ़ाया और उसे दिल्ली पर कब्जा करने के लिए सक्रिय किया। उसने दिल्ली के नियंत्रण को मुल्तान से कन्नौज तक और हिमालय की तराई से मालवा सीमा तक मजबूत करने की कोशिश की।

मुबारक शाह (1421-1434): उसके मेवाती, कटिहार और गंगा के दोआब के खिलाफ सफल अभियानों ने उसे उस क्षेत्र से राजस्व एकत्र करने में सफल बनाया, हालांकि उनके प्रमुखों पर दिल्ली की सत्ता की पकड़ संदिग्ध थी। उसके ही कुछ प्रधानों द्वारा मुबारक शाह की हत्या कर दी गई।

मुहम्मद शाह (1434-1443): नया सुल्तान भी प्रमुख प्रधानों के बीच षड्यंत्रों का मुकाबला करने में असमर्थ था। उसकी स्थिति अत्यंत दयनीय बना दी गई थी, और वास्तव में वह अपनी राजधानी के आसपास महज चालीस मील की दूरी के क्षेत्र पर सत्तारूढ़ था।

आलम शाह (1443-1451): 1447 में बदायूं में अपनी वापसी के समय बहलूल लोधी ने दिल्ली पर कब्जा कर लिया। सुल्तान ने बहलूल का सामना नहीं किया, और औपचारिक रूप से 1451 में उसे दिल्ली की संप्रभुता सौंप दी। सैयद राजवंश ने नाम मात्र का शासन किया, लेकिन लोधी राजवंश ने दिल्ली सल्तनत की प्रतिष्ठा को पुनर्जीवित किया।

3.0 लोधी राजवंश

3.1 बाहलूल लोधी

बाहलूल लोधी ने लोधी वंश की स्थापना की और उसने 1451 से 1526 के दौरान शासन किया। वह पहले सैयद राजवंश के (1414-1451) दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन आलम के तहत सिरहिंद (पंजाब) का प्रशासक था। बहलूल लोधी ने सैयद राजवंश की कमजोर स्थिति का फायदा उठाया, और पहले पंजाब प्रांत पर कब्जा कर लिया, और बाद में दिल्ली पर कब्जा कर लिया और सुल्तान अबुल मुजफ्फर बहलूल शाह गाज़ी के खिताब के अंतर्गत 19 अप्रैल, 1451 को दिल्ली का सुल्तान बन गया।

PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test

हालांकि, उसके शासन के दौरान साम्राज्य को अस्थिर करने के कई प्रयास किए गए, फिर भी बहलूल लोधी ने आसपास के कई राज्यों पर कब्जा कर लिया। यह, शेर शाह सूरी के अपवाद के साथ, दिल्ली सल्तनत पर शासन करने वाला एकमात्र अफगान राजवंश था। बहलूल खान ने सिंहासन हथिया लिया और शासक आलम शाह से ज्यादा प्रतिरोध के बिना राज्य करने में कामयाब रहा। बहलूल खान का क्षेत्र जौनपुर, ग्वालियर और उत्तर प्रदेश भर में फैला हुआ था। 1486 में, उसने जौनपुर के वायसरॉय (प्रशासक) के रूप में अपने सबसे बड़े पुत्र बबरक शाह की नियुक्ति की। 

3.2 सिकंदर लोधी

जुलाई 1489 में बहलूल लोधी की मौत के कारण उसका बेटा निज़ाम खान, सिकंदर शाह लोधी खिताब के अंतर्गत उत्तराधिकारी बन गया। वह लोधी वंश का सबसे सक्षम शासक साबित हुआ। सिकंदर शाह ने प्रशासन की एक निष्पक्ष व्यवस्था स्थापित की और आगरा के ऐतिहासिक शहर की स्थापना की। उसका साम्राज्य पंजाब से बिहार तक विस्तारित था, और उसने बंगाल के शासक अलाउद्दीन हुसैन शाह के साथ एक संधि भी की थी। सिकंदर शाह वह शासक था, जिसने एक नए शहर की स्थापना की, जहां आधुनिक आगरा शहर खड़ा है। वह एक दयालु और उदार शासक होने के लिए जाना जाता था, जिसे अपनी प्रजा की परवाह थी।

3.3 इब्राहिम लोधी

सिकंदर की मौत के साथ उसके बेटों के बीच उत्तराधिकार के लिए लड़ाई शुरू हुई, जो लोधी वंश के शासन के पतन का कारण बनी। सिकंदर का बेटा इब्राहिम लोधी, लोधी वंश का अंतिम सुल्तान था। मध्य एशिया के मुगल शासक जहीरुद्दीन बाबर ने भारत पर हमला किया और 21 अप्रैल 1526 को पानीपत की पहली लड़ाई में इब्राहिम को हराया। 

लोदी वंश के सिंहासन के लिए जब इब्राहिम का समय आया, परित्यक्त व्यापार मार्गों और खाली खजाने की वज़ह से राजवंश में राजनीतिक संरचना भंग हो चुकी थी।

PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test

डेक्कन (दक्कन) एक तटीय व्यापार मार्ग था, लेकिन 15 वीं सदी के उत्तरार्ध में आपूर्ति पंक्तियां ढ़ह गई थीं। विशिष्ट व्यापार मार्ग की गिरावट और विफलता की वज़ह से तटीय क्षेत्र से आंतरिक क्षेत्र को, जहां लोदी साम्राज्य बसता था, आपूर्ति बंद हो गई। यदि वे भागने के लिए बलपूर्वक व्यापार मार्ग की सड़कों का उपयोग करते, तो राजवंश युद्ध से खुद की रक्षा करने की स्थिति में नहीं था, और इसलिए व्यापार मार्गों का उपयोग नहीं किया गया। वे आंतरिक राजनीतिक समस्याओं की चपेट में उलझे व उनके व्यापार और खज़ाने में गिरावट आई।

जब इब्राहिम अगले लोधी सम्राट के रूप में सिंहासन पर चढ़ने की कोशिश कर रहा था, उसी समय, अफगान प्रमुखों के रूप में, एक और समस्या उसके सामने खड़ी थी। प्रमुखों को सुल्तान इब्राहिम पसंद नहीं था, इसलिए उन्होंने लोधी साम्राज्य का विभाजन किया, और इब्राहिम के बड़े भाई जलालुद्दीन को जौनपुर का पूर्वी क्षेत्र दे दिया और इब्राहिम को दिल्ली के रूप में पश्चिम क्षेत्र दे दिया। इस स्थिति के बावजूद, एक कुशल सैन्य व्यक्ति होने के नाते, उसने पर्याप्त सैन्य समर्थन इकट्ठा किया और अपने भाई को मार डाला, और उसी वर्ष 1517 के अंत तक राज्य को वापस मिला लिया।

बाद में इब्राहिम लोधी ने उसका विरोध करने वाले अफगान प्रधानों को गिरफ्तार कर लिया। अफगान प्रधान बिहार के गवर्नर दरिया खान के प्रति वफादार थे, और चाहते थे, कि सुल्तान इब्राहिम के बजाय वह दिल्ली पर शासन करे। सुल्तान इब्राहिम के समय के दौरान लोधी सिंहासन पर कब्जा करने की कोशिश करने वाले लोग बहुत आम थे। उत्तराधिकार कानून के अभाव में इब्राहिम इन महत्वाकांक्षी व्यक्तियों के एक बड़े समूह को दबाने के लिए मजबूर था। इब्राहिम लोधी के स्वयं के चाचा, आलम खान, अपनी महत्वाकांक्षाओं के चलते इब्राहिम को धोखा दिया, क्योंकि वह दिल्ली पर शासन करना चाहता था। आलम खान ने अपनी वफादारी पहले मुगल बादशाह, बाबर के साथ रखने का फैसला किया।

प्रधानों की मांगों के कारण इब्राहिम लोधी के छोटे भाई जलाल खान को राज्य का एक छोटा सा हिस्सा दिया गया था और उसे जौनपुर के राजा का ताज पहनाया गया। बाद में, इब्राहिम के आदमियों ने उसकी हत्या कर दी और राज्य वापस इब्राहिम लोधी के पास आया। वह एक बहुत कठोर शासक होने के लिए जाना जाता था और अपनी प्रजा द्वारा ज्यादा पसंद नहीं किया गया।

इब्राहिम द्वारा किये गए अपमान का बदला लेने के लिए लाहौर के प्रशासक दौलत खान लोधी ने काबुल के शासक बाबर को राज्य पर आक्रमण करने के लिए कहा। लड़ाई में लोधी हार गया, और फिर बाबर ने भारत में मुगल वंश की स्थापना की। इब्राहिम लोदी की मौत के बाद लोधी वंश का अंत हो गया। यह एक ऐतिहासिक मोड़ था-इब्राहिम की हार के साथ लोदी वंश का अंत और भारत में मुगल शासन की शुरुआत का आग़ाज़।

4.0 दिल्ली सल्तनत के तहत प्रशासन

दिल्ली सल्तनत की सरकार, एक ओर, इस्लामी राजनीतिक विचारों और संस्थाओं, और दूसरी ओर, सरकार की मौजूदा राजपूत प्रणाली के बीच एक समझौता थी। नतीजतन, परिवर्तन के साथ या बिना परिवर्तन, राजपूत राजनीतिक प्रणाली के कई तत्व भारत में तुर्की प्रशासन का अभिन्न अंग बन गए।

4.1 मुस्लिम राजनीतिक विचार

धर्मविज्ञानी आधारः मुसलमान मानते थे, कि इस्लामी समाज और सरकार कुरान की दिव्य निषेधाज्ञा के आधार पर आयोजित किया जाना चाहिए। उपरोक्त के साथ, पैगंबर मुहम्मद के कथन और क्रियाएँ, जिन्हे सामूहिक रूप में हदीस के नाम से जाना जाता है, पूरक किया जाने लगा। उलेमाओं (मुस्लिम धर्मशास्त्री) ने कुरान और हदीस के आधार पर, विभिन्न स्थितियों और समस्याओं से निपटने के लिए विभिन्न हुक्म जारी किये। इन्हे संयुक्त रूप से शरीयत (इस्लामी कानून) के रूप में जाना जाता है।

अल्लाह-पैगंबर संबंधः कुरान के अनुसार, पूरे ब्रह्मांड के असली स्वामी और प्रभु अल्लाह है। अल्लाह ने अपने संदेश के प्रसारण के लिए उसके नबी सदियों से, सब स्थानों को भेजे हैं। पैगंबर मुहम्मद इनमें आखिरी थे। जबकि शासक की आज्ञा का पालन करना शासित का कर्तव्य है, उतना ही, अपने कार्यों का निर्वहन कुशलता से करना, शासक का कर्तव्य है।

खिलाफतः सिद्धांत रूप में, पूरी मुस्लिम बिरादरी का केवल एक ही सम्राट होना चाहिए। लेकिन जब खिलाफत या (खलीफा का साम्राज्य) बहुत व्यापक हो गया और विघटनवादी तत्व प्रबल होने लगे, तब उलेमा या मुस्लिम न्यायविदों ने बलापहार द्वारा शासन का सिद्धांत विकसित किया, और कहा कि “खलीफा ने जिसे विरोध नहीं किया, उसे उन्होंने मंजूरी दे दी है”।

इसी प्रकार, वे कहते हैं, कि केवल एक निर्वाचित प्रधान ही शासक हो सकता है। लेकिन जब खिलाफत एक वंशानुगत राजतंत्र बन गया, तब उन्होंने चुनाव का एक नया सिद्धांत विकसित किया। अब, ग्यारह या पाँच या यहां तक कि एक व्यक्ति द्वारा विश्वास किया गया व्यक्ति, “लोगों द्वारा चुनाव” के रूप में माना गया था। इसने, एक सत्तारूढ़ संप्रभु द्वारा नामांकन को, लोगों द्वारा चुनाव के रूप में वैधता प्रदान की। यह माना जाता था, कि एक शासक के खिलाफ किसी भी बड़े पैमाने पर बगावत का अभाव, लोगों द्वारा मौन स्वीकृति, अनुमोदन या चुनाव के समान था।

PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test

खलीफा-सुल्तान संबंधः सुल्तानों में से अधिकांश, कानूनी संप्रभु के रूप में खलीफा को, और खुद को खलीफा के प्रतिनिधि होने का ढ़ोंग करते थे। उनमें से अधिकांश खुत्बा (प्रार्थना) और सिक्का (सिक्का) में खलीफा का नाम शामिल करते थे, और खलीफा के प्रति उनकी अधीनता का संकेत देने वाले खिताब अपनाया करते थे।

हालांकि, तीन शासकों ने अपने खुद के महत्व पर बल दिया। बलबन का कहना था, कि पैगंबर के बाद, सबसे महत्वपूर्ण कार्य संप्रभु का था, और खुद को ‘भगवान की छाया‘ कहता था। मुहम्मद बिन तुगलक ने अपने शासनकाल के प्रारंभिक वर्षों में यह तरीका अपनाया था और हालांकि, बलबन ने खुत्बा और सिक्के में खलीफा का नाम बरकरार रखा था, मुहम्मद ने कहीं भी खलीफा का उल्लेख नहीं किया। लेकिन, इन सबके बावजूद उनमें से किसी ने खुद को खलीफा कहने की धृष्टता नहीं की। ऐसा करने वाला एकमात्र व्यक्ति कुतुब-उद-दीन मुबारक खिलजी था।

4.2 प्रांतीय सरकार

पूरा राज्य कई प्रांतों और शाखा राज्यों में विभाजित किया गया था, जिन्हे विलायत या इकलिम कहा जाता था। जब तक वे साम्राज्य की अखंड़ता को खतरा नहीं बन जाते थे, शाखा राज्यों के आंतरिक मामलों में आम तौर पर हस्तक्षेप करने के प्रयास नहीं किये जाते थे। परन्तु सुल्तानों के तहत प्रांतीय प्रशासन न तो अच्छी तरह से संगठित था और न ही कुशल।

पहले दौर में, एक प्रधान को अविजित या अर्द्ध विजय प्राप्त क्षेत्र इकटा के रूप में सौंपा जाता था और शक्ति द्वारा वह जितनी जमीन वश में कर सकता था, उसे उस क्षेत्र का प्रशासक स्वीकार कर लिया जाता था। लेकिन यह बाद के समय में लागू नहीं था। अब शासक खुद विजय और अधीनता का कार्य करने लगे और विजय प्राप्त क्षेत्र उपयुक्त प्रशासकों को सौंप देते थे। शुरुआती दौर में, प्रशासकों का स्थानांतरण एक दुर्लभ घटना थी, लेकिन बाद के समय में यह मुक्त रूप से किया जाने लगा था। बरनी के अनुसार, अलाउद्दीन खलजी के शासनकाल में बारह प्रांत थे।

गवर्नर को नईम या वाल कहा जाता था। प्रांतीय गवर्नर के नीचे एक प्रांतीय वजीर, एक प्रांतीय आरिज़ और एक प्रांतीय काज़ी होता था। उनके कार्य केंद्र के इसी तरह के पदाधिकारियों के समान होते थे। केंद्र में सुल्तान की तरह प्रांतीय गवर्नर भी अपने हाथों में कानून और व्यवस्था, स्थानीय सेना पर नियंत्रण, राज्य को देय राशि की वसूली और न्याय के लिए प्रावधान बनाए रखने की शक्तियां रखता था।

4.3 स्थानीय सरकार

प्रांत शिक और इसके नीचे परगना में विभाजित थे। शिक, शिकदार के नियंत्रण में रहता था। कई गांवों से बना परगना आमिल के नियंत्रण में रहता था। गांव प्रशासन की बुनियादी इकाई बना रहा, और इसमें काफी हद तक स्वशासन था। गांव में सबसे महत्वपूर्ण अधिकारी मुखिया था, जिसे मुकद्दम या चौधरी के रूप में जाना जाता था।

PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test

5.0 कृषि संरचना और संबंध

दिल्ली के सुल्तानों की प्रमुख उपलब्धि थी कृषि का व्यवस्थित दोहन और इस प्रकार प्राप्त राजस्व की असीम एकाग्रता। विजय के तत्काल बाद पराजित बस्तियों के अभिजात्य वर्ग के सदस्यों के साथ समझौता किया जाता था। अतः भू-राजस्व वशीभूत शासकों पर तय नज़राने से अधिक नहीं होता था। राजस्व प्रणाली में आमूल सुधारों की शुरूआत अनुभव और अनुकूलन की एक सदी के बाद ही हुई।

भारत में अपनी स्थिति मजबूत करने के बाद दिल्ली के सुल्तानों ने भूमि को तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया - इकता भूमि, अर्थात, इकता के रूप में अधिकारियों को आवंटित भूमि, खालिस भूमि या ताज के लिए भूमि, अर्थात् जो भूमि सुल्तान के प्रत्यक्ष नियंत्रण में रहती थी, और जिसका राजस्व दरबार और शाही परिवार के रखरखाव के लिए होता था, और इनाम भूमि, (इसे मदद इमाश, सुयुर्घल या वकफ़ भूमि के रूप में भी जाना जाता था) अर्थात्, धार्मिक नेताओं और धार्मिक संस्थाओं को दी गई भूमि।

6.0 कराधान प्रणाली

दिल्ली के सुल्तानों द्वारा लागू किये गए और एकत्र किए गए विभिन्न प्रकार के करों को मोटे तौर पर दो वर्गों में बांटा जा सकता हैः

(1) धार्मिक कर और (2) धर्मनिरपेक्ष कर।

  1. पहले प्रकार में, ज़कात, मुसलमानों की संपत्ति और भूमि पर लागू एक कर था। लेकिन यह अनिवार्य रूप से सद्र विभाग के माध्यम से संपन्न धार्मिक और धर्मार्थ उद्देश्यों के लिए था।
  2. दूसरा धार्मिक कर जिज़या (या जज़िया) था। यह गैर मुसलमानों या ज़िम्मिओं पर राज्य द्वारा उनके जीवन, संपत्ति और पूजा के स्थान के संरक्षण के लिए लगाया गया एक कर था। हालांकि, मति-मंद, अवयस्कों, बेसहारा, भिक्षुओं और पुजारियों जैसे लोगों को इसके भुगतान से छूट दी गई थी।
  3. धर्मनिरपेक्ष करों में, खरज राज्य के लिए सबसे महत्वपूर्ण कर या आय का स्रोत था। यह मूल रूप से, गैरमुसलमान किसानों से वसूल किया जाता था, लेकिन बाद में खालिस भूमि की खेती करनेवाले मुसलमान किसानों से भी वसूला जाने लगा। यह शायद सामूहिक धर्मान्तरण के कारण राज्य के राजस्व में अचानक आयी कमी को रोकने के लिए किया गया था। भू-राजस्व का आकलन करने में, खेत के क्षेत्रफल फसल का प्रकार, दोनों को ध्यान में रखा जाता था। लेकिन अधिक सामान्य विधि फसलों के विभाजन की थी। अलाउद्दीन और मुहम्मद तुगलक ने क्षेत्र की एक इकाई के आधार पर भू-राजस्व को  तय करने के काफी विशेष उपाय किए, किन्तु  इस योजना में ज्यादा प्रगति नहीं हो सकी, और न ही इसका भूमि अवधियों पर कोई स्थायी प्रभाव बना।
  4. राज्य के लिए आय का एक अन्य धर्मनिरपेक्ष स्रोत खम्स या खानों, खज़ाना निधि, आदि पर कर और युद्ध लूट में हिस्सेदारी, था। कानूनी तौर पर राज्य केवल 1/5 वें युद्ध लूट का हकदार था, लेकिन फिरोज़ को छोड़कर सभी दिल्ली सुल्तानों ने दरों में संशोधन करके राज्य के लिए 4/5 की वसूली की और 1/5 सैनिकों के लिए छोड़ दिया। इसी प्रकार, खानों और खज़ाना निधि पर टैक्स, इनसे प्राप्त धन का 1/5 था।
  5. इसके अलावा, सिंचाई कर (शर्ब), चराई कर, व्यापारियों से सीमा शुल्क और उत्पाद शुल्क, गृह कर, आदि जैसे कई अन्य धर्मनिरपेक्ष कर थे।

संग्रह की विधिः करों का भुगतान नकदी और वस्तु के रूप में, दोनों प्रकार से किया जाता था, हालांकि अलाउद्दीन जैसे सुल्तान, दोआब जैसे कुछ क्षेत्रों में वस्तु भुगतान को प्राथमिकता देते थे। राज्य का सभी राजस्व एक केंद्रीय राजकोष में जमा किया जाता था। वजीर, कुल राजस्व संग्रह के आधार पर विभिन्न विभागों के लिए अनुदान का आवंटन करते थे। राजस्व प्रशासन में कई अन्य अधिकारी वजीर को सहायता प्रदान करते थे। बजट की आधुनिक विधि अस्तित्व में नहीं थी, और सुल्तान शाही राजकोष का उपयोग वस्तुतः अपने प्रिवी पर्स के रूप में करने के लिए स्वतंत्र था।

7.0 इकता प्रणाली का विकास

प्रथम चरण (1206-1290): यह प्रणाली, सैन्य कमांडरों को विभिन्न क्षेत्रों को इकटा के रूप में वितरण के साथ शुरू हुई (प्रादेशिक क्षेत्रों या यूनिट जिसका राजस्व वेतन के एवज में अधिकारियों को सौंपा जाता था) जिनके राजस्व से वे खुद को और अपने सैनिकों को बनाए रख सकते थे। इस चरण में इकता केवल एक राजस्व इकाई ही नहीं बल्कि एक प्रशासनिक इकाई भी थी। इस अवधि में इकता का स्थानांतरण एक व्यक्ति से दूसरे को शायद ही कभी किया गया।

द्वितीय चरण (1290-1351): प्रणाली का संशोधन खिलजी और प्रारंभिक तुगलक के अंतर्गत किया गया। उन्होंने इकता के लगातार स्थानांतरण का सहारा लिया। उन्होंने इकतेदार या मुक्ति (इकता धारकों) द्वारा संग्रह और व्यय के खातों के नियमित रूप से प्रस्तुत करने और शेष राशि (फवाज़िल) राजकोष को भेजने पर जोर दिया। प्रत्येक क्षेत्र की राजस्व भुगतान क्षमता, नकदी और समान राजस्व भुगतान की क्षमता वाले इकता के मापने के संदर्भ में अधिकारियों के वेतन का निर्धारण, इस अवधि के मुख्य घटनाक्रम थे।

तृतीय चरण (1351-1526): यह फिरोज़ तुगलक द्वारा पिछले चरण की प्रवृत्ति के पलटने के साथ शुरू हुआ, जिसने अधिकारियों को रियायतों की एक श्रृंखला प्रदान की। इकता के अनुमानित राजस्व का निर्धारण स्थायी रूप से किया गया, इस प्रकार मुकतियों को राजस्व की बढ़ी हुई राशि को समायोजित करने की इजाजत दी गई। पदों और कार्यों को व्यावहारिक रूप से वंशानुगत बनाया गया। फिरोज़ द्वारा शुरू किये गये ये परिवर्तन उसके उत्तराधिकारियों द्वारा जारी रखे गए।

इकता प्रणाली में उपरोक्त सभी घटनाक्रम मूल रूप से दिल्ली के सुल्तानों के तहत कुलीनों की संरचना में परिवर्तन की वजह से हुए थे। शुरू में कुलीनों में तुर्कों का एकाधिकार था, लेकिन धीरे-धीरे फारसियों, अफगानों, अबीसीनिअनों, और भारतीय मुसलमानों जैसे अन्य लोगों ने कुलीनों में प्रवेश किया, और इस प्रकार यह अधिक सर्वदेशीय और विजातीय बना। खिलजी और प्रारंभिक तुगलक के अंतर्गत कुलीनों में नए तत्वों के प्रवेश ने सुल्तानों को इकता प्रणाली पर अपना नियंत्रण बढ़ाने में सक्षम बनाया, लेकिन एक बार इन नए तत्वों ने खुद को मजबूत बना लिया, फिर उन्होंने अधिक शक्तियों और विशेषाधिकारों की मांग की, जिसके परिणामस्वरूप फिरोज तुगलक द्वारा इकता प्रणाली का उदारीकरण और विकेंद्रीकरण किया गया।

8.0 ग्रामीण वर्ग

कृषक वर्गः कृषक वर्ग, बलहार के नाम से जाना जाता था। वे भू-राजस्व के रूप में अपनी उपज का एक तिहाई, व कभी-कभी आधा भी, भुगतान करते थे। भू-राजस्व के अलावा, वे कुछ अन्य करों का भुगतान करते थे, जिससे साबित होता है कि इस अवधि के दौरान कराधान पिछली अवधि की तुलना में अधिक नहीं, तो कम भी नहीं था। दूसरे शब्दों में, किसान हमेशा जीवन-यापन के स्तर पर रहते थे, जो निरंतर युद्धों के कारण आसानी से संभव नहीं हो पाता था, जिसके परिणामस्वरूप बड़े पैमाने पर अकाल की स्थिति बनी रहती थी।

मुकद्दम और छोटे जमींदारः उनका जीवन स्तर बेहतर था, क्योंकि वे साधारण किसानों का शोषण करने के लिए आसानी से अपनी शक्ति का दुरुपयोग करते थे। स्वायत्त सरदार सबसे समृद्ध ग्रामीण तबका था। हालांकि वे अब एक पराजित शासक वर्ग थे, फिर भी वे अपने संबंधित क्षेत्रों में अभी भी शक्तिशाली थे और मुस्लिम पूर्व अवधि की तरह एक विलासितापूर्ण जीवन जीना जारी रखे हुए थे।

9.0 वाणिज्य का विकास और शहरीकरण

विशाल शहरी केंद्रः 13 वीं और 14 वीं सदी में भारत ने कई शहरों और कस्बों का उदय और विकास देखा। मसलन, लाहौर और मुल्तान (आधुनिक पाकिस्तान), भरूच खंभात और अन्हिलवारा (पश्चिमी भारत), लखनौती, गौर और सोनारगांव (पूर्वी भारत), दौलता (डेक्कन), दिल्ली और जौनपुर (उत्तर भारत), आदि। इब्न बतूता (मुहम्मद बिन तुगलक के दरबार में आठ साल बिताने वाले मोरक्को के एक यात्री) के अनुसार, दिल्ली इस्लामी पूर्व में सबसे बड़ा शहर था, और आकार में, दौलताबाद लगभग दिल्ली का प्रतिद्वंद्वी हो सकता था।

शहरी विकासः प्रत्येक नए वंशवादी क्षेत्र के हृदय में, राजधानियों की गंभीर किलेबंदी की जरूरत थी। उत्तरी मैदानों में पूरब-पश्चिम दौड़ती हुई, और प्रायद्वीप में उत्तर-दक्षिण दौड़ती हुई गतिशीलता की प्रमुख धमनियों पर बड़ी तेजी से बड़े पथरीले किले विकसित हुए। कोटा (1264), बीजापुर (1325), विजयनगर (1336), गुलबर्गा (1347), जौनपुर (1359), हिसार (1361), अहमदाबाद (1413), जोधपुर (1465), लुधियाना (1481), अहमदनगर (1494), उदयपुर (1500) और आगरा (1506) में किले बने। इस संदर्भ में, गंगा के नीचे और मालवा और डेक्कन के रूप में रणनीतिक मार्गों पर सवार होकर दिल्ली ने एक शाही राजधानी के रूप में अपने लंबे सफर की शुरुआत की।

PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test

किलों का नए शहरी केंद्रों के रूप में विकासः नई वंशवादी राजधानियां अक्सर अक्सर सबसे उपजाऊ कृषि इलाकों में या नदी तराई में पुराने मध्यकालीन केन्द्रों में स्थित नहीं होती थीं, बल्कि ऊपरी भूभाग में, सूखी जमीन पर, सामरिक जगहों में, संचार और आपूर्ति के मार्ग के साथ स्थित होती थीं। जैसे-जैसे नए वंशवादी राज्य अमीर होते गए, वैसे-वैसे किले, महलों, बड़े खुले प्रांगण, उद्यान, फव्वारे, चौकियां, अस्तबल, बाजारों, मस्जिदों, मंदिरों, धार्मिक स्थलों और नौकर-खानों के साथ गढ़वाले नगर बनते गए। गढ़वाले स्थान का वास्तुशिल्प विस्तार एक बड़ा व्यापार बन गया। इसने शहरी परिदृश्य की एक नई किस्म को जन्म दिया। एक विशिष्ट किले के अंदर, महल की चमक के साथ ही अस्तबल और बैरकें थीं। हमें एक आत्म-निहित, सशस्त्र शहर नज़र आता है, जिसके अधिकांश तत्व दूर से आए थे। स्थायी सेनाएं व्यापार और प्रवास के व्यापक नेटवर्क से विशेषज्ञ सैनिकों और आपूर्ति उत्पाद को आकर्षित करती थीं, और इन नए शहरी केन्द्रों को निरंतर बनाये रखती थीं। कोई भी महत्वपूर्ण नए राजवंश संसाधनों के लिए अपनी राजधानी के तत्काल दूरदराज के इलाकों पर निर्भर नहीं रहे, और इस हद तक, वे सभी छोटे लेकिन शाही थे।

सेना राजनीतिक भूगोल निर्धारित करती हैः राजनीतिक भूगोल अब कृषि प्रधान मुख्य क्षेत्रों पर, पहले जितना ध्यान केंद्रित नहीं करता था। अब यह सेनाओं के मार्गों का पालन करने लगा। एक ठेठ सुल्तान का अधिकार-क्षेत्र गढ़वाले क्षेत्रों की एक श्रृंखला होती थी, प्रत्येक एक सेना के साथ, जो उसके आसपास के भूमि के करों पर रहती थीं। जैसे-जैसे स्थानीय किला कमांडर एक केंद्रीय कमान को आत्मसमर्पण करते गए, वैसे-वैसे राजवंशों का विस्तार होता गया। जब-जब उनके कमांडरों ने स्वतंत्रता की घोषणा की, जैसा कि वे अक्सर किया करते थे, वे खंडित होते गए। दो महान शाही सफलता की कहानियां हैं, दिल्ली के सुल्तान, जिनकी पांच वंशवादी प्रजातियों ने 1206-1526 के दौरान तीन सौ वर्षों के लिए अधीनस्थ शासकों के एक लगातार बदलते समूह को षासित किया। और मुगल, जिनकी एक वंशावली ने उनके आधे काल के लिए, 1556 में अकबर की ताजपोशी के दिन से, 1707 में औरंगजेब की मृत्यु के दिन तक, एक विशाल सैन्य कमान नियंत्रित की।

सेना भौतिक और सामाजिक गतिशीलता को बढ़ावा देती हैः जिन शासनों ने व्यापक भौतिक और सामाजिक गतिशीलता को बढ़ावा दिया, उनके अंतर्गत शहरीकरण नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया। सेनाओं ने व्यापार मार्गों की रक्षा की, और सुल्तानों ने सामरिक सड़कों का निर्माण किया। सेना ने हमेशा ऊपर की ओर सामाजिक गतिशीलता के लिए मार्ग उपलब्ध कराए। कई पुरुष लड़ने के लिए लंबी दूरी की यात्रा करते थे। किसानों के लिए, दूर डेक्कन में लड़ने के लिए, हर साल फसल के बाद बिहार और उत्तर प्रदेश की सीमा पर भोजपुरी क्षेत्र छोड़ना, मजदूरी और लूट इकट्ठा करना और अगली बुवाई के लिए घर वापसी, यह लगभग नित्य कर्म बन गया था। छोटी दूरी के मौसमी सैन्य प्रवास डेक्कन में किसान निर्वाह का अभिन्न अंग बन गए। राजवंशों ने केवल इसलिए विस्तार किया, क्योंकि योद्धा इसकी परिधि पर जा बसे, जहां वे लड़े, बसे और सैन्य प्रवास की नई लहरों को आकर्षित किया। युद्ध ने, कृषि कार्यों में बाधा पहुँचा कर और सेनाओं को खिलाने के लिए ग्रामीणों को मजबूर करके, किसानों को घर से दूर किया। गतिशील जीवन कई लोगों के लिए एक आम सामाजिक अनुभव बन गयाः मौसमी प्रवासी, युद्ध और सूखे से भागते लोग, सेना आपूर्तिकर्ता और शिविर अनुयायी, काम खोजते कारीगर, और नई भूमि की तलाश में किसान, व्यापारी, खानाबदोश, बदलने वाले किसान, शिकारी, चरवाहे और परिवाहक। कुल मिलाकर, हर साल के बड़े भाग के लिए गतिशील लोग, मध्यकाल के प्रमुख वंशवादी राज्यों की कुल आबादी के आधे निश्चित रूप से रहे होंगे।

व्यापार विकास, और व्यापारियों का महत्वः इस गतिशीलता से वाणिज्य में विभिन्न तरीकों से वृद्धि हुई। लेकिन मध्ययुगीन राज्यों के विशिष्ट शहरीकरण की मुख्य विशेषता यह थी, कि इसमें वंशवादी सैन्य शक्ति के चारों ओर गढ़वाले केन्द्रों में वस्तुओं और सेवाओं की और व्यावसायिक आपूर्ति और मांग की सांद्रता आयी। सेनाओं को घर में और लड़ाई के मैदान में घोड़ों से लेकर हथियारों तक, भोजन, कालीनों, आभूषणों, कला, और मनोरंजन के लिए विविध वस्तुओं और सेवाओं की जरूरत थी। शासकों ने सैनिकों को भुगतान करने और युद्ध सामग्री खरीदने के लिए नकद और उधार जमा किया। युद्ध का समर्थन करने के लिए नकदी प्राप्त करने की जरूरत ने शासकों के लिए सेना कर्मियों, आपूर्तिकर्ताओं, आश्रित और संबद्ध सेवा समूहों के सभी प्रकार से भरे, एक समय में महीनों के लिए देश भर में घुमते, आभासी सैन्य शहरों की आपूर्ति करना आवश्यक बना दिया। अपनी श्रेष्ठता बनाए रखने के लिए, एक सुल्तान को, सैन्य शक्ति के अपने व्यापक प्रदर्शन के वित्तपोषण के लिए नकदी की जरूरत थी। वंशवादी संकट के समय में वित्तीय समर्थन प्राप्त करना कठिन हो गया था, जिसके फलस्वरूप बैंकर और व्यापारी, राजनीति में शक्तिशाली, और शहरी समाज और संस्कृति में प्रभावशाली बन गए।

10.0 व्यापार और वाणिज्य का विकास

इब्न बतूता ने मंगोलों के पश्चात उभरे नए एशियाई देशों की यात्रा की। मोरक्को में टैंजियर, में जन्मे, उसने 1325 में स्थल मार्ग से मक्का, फारस से होते हुए समरकंद के रास्ते दिल्ली की अपनी यात्रा शुरू की। वह आठ वर्षों तक दिल्ली में सुल्तान के दरबार में रहा, और बाद में सुल्तान के दूत के रूप में चीन गया, और समुद्र मार्ग से सुमात्रा, श्रीलंका, केरल, गोवा और गुजरात के रास्ते होते हुए वापस मोरक्को के लिए रवाना हो गया। उसकी चतुर टिप्पणियां अक्सर वाणिज्यिक स्थितियों को लेकर होती थीं। तुर्किस्तान में उसने पाया कि, ‘‘घोड़े ..... अनेक हैं और उनकी कीमत नगण्य है।‘‘ उसने बंगाल में पाया कि, “वह चावल में समृद्ध एक विशाल देश है, और वहाँ की तुलना में चावल की कम कीमतें मैंने दुनिया में नहीं देखी”। गोवा से क्विलोन के रास्ते पर उसने लिखा है, “मैंने इसकी तुलना में सुरक्षित सड़क कभी नहीं देखी, क्योंकि वे एक अखरोट चुराने वाले को भी मौत की सजा देते हैं, और यदि कोई फल गिर जाता है, तो मालिक के आलावा उसे कोई नहीं उठाता”।

एक भूमि पुल के रूप में दक्षिण एशिया की भूमिकाः हालांकि प्रारंभिक मध्ययुगीन शिलालेख प्रमुख व्यापारी समुदायों द्वारा लंबी दूरी के व्यापार सहित पर्याप्त वाणिज्यिक गतिविधि की ओर संकेत करते हैं, मध्ययुगीन दस्तावेजों से संकेत मिलता है कि वाणिज्य ने 1200 के बाद नाटकीय रूप से विस्तार किया है। जैसा इब्न बतूता इंगित करता है, विशेष माल विशेष क्षेत्रों में बहुतायत में उत्पादित होता था, और शासक उनके क्षंत्रों के अंदर व्यापारियों की गतिविधियों को संरक्षित करते थे। इसके अलावा, उसका मार्ग ही-एक सदी पहले मार्को पोलो की तरह-यह संकेत करता है कि मध्य एशिया भर में अंतर्देशीय परिवहन गतिशीलता का एक व्यापक संजाल का हिस्सा था, जिसमें हिंद महासागर और दक्षिण चीन सागर शामिल थे। दक्षिण एशिया, मध्य एशिया और दक्षिणी समुद्र के बीच में एक विशाल भूमि पुल था।

PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test

हिंद महासागर में व्यापार मार्गों का नेटवर्कः हिंद महासागर में लंबे और छोटे व्यापार मार्गों का जाल प्राचीन काल से तट से जुड़ा हुआ था। चीन और यूरोप के बीच लंबे मार्ग हमेशा दक्षिण एशिया को छूते थे, जहां वे गुजरात से बंगाल तक बस्तियों के बीच तटीय मार्गों से मिलते थे। काहिरा के प्रारंभिक मध्ययुगीन अभिलेखों में गुजरात और मालाबार की यात्राओं का वर्णन है, और भूमध्य से कई व्यापारियों के लिए, कोचीन भारत का प्रविष्टि बंदरगाह था। पश्चिम से कई ईसाई, मुस्लिम और यहूदी व्यापारी, प्रारंभिक मध्ययुगीन केरल में बस गए, जहां हिंदू शासक खानदानी धन को बढ़ाने के लिए उन पर निर्भर रहते थे। इब्न बतूता ने पाया, कि ‘‘फारस, और यमन से अधिकांश व्यापारी मंगलौर उतरते हैं, जहां काली मिर्च और अदरक निहायत प्रचुर मात्रा में हैं”। 1357 में, पोप बेनेडिक्ट के चीन के दूत, मैरिग्नोल के जॉन ने, क्विलोन को “भारत का सबसे प्रसिद्ध शहर, जहां पूरी दुनिया की सारी काली मिर्च पैदा होती है”, बताया। 1498 में, वास्को डा गामा के मालाबार आ जाने के बाद, यूरोपीय लोगों ने पश्चिमी तट पर स्थायी निवास के लिए गढ़वाली बस्तियों का निर्माण शुरू किया।

PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test

अंतर्देशीय के विदेशी संबंधों का महत्वः अंतर्देशीय भीतरी इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए तट और उनके विदेशी संबंध तेजी से महत्वपूर्ण बन गए। अन्यत्र प्रवृत्तियों ने भी अंतर्देशीय समाज के लिए हिंद महासागर के बंदरगाहों को अधिक महत्वपूर्ण बना दिया। योद्धाओं को समुद्र से आयातित घोड़ों की जरूरत थी। किसानों ने कृषि को आंतरिक ऊपरी भूभाग में भी धकेल दिया, जिससे निर्यात अधिक विविधांगी बन गया, जहां अधिक विविध उत्पादक बस्तियों ने अग्रणी नदियों के साथ जो समुद्र से जुड़ती थीं, व्यापार प्रणाली में प्रवेश किया। पर्वतीय जंगलों ने लकड़ी, शहद, फल, हाथी और कई अन्य मूल्यवान चीजें तटीय क्षेत्रों को भेजीं, और बदले में, चावल, मांस, उपकरण प्राप्त किये, जिन्होंने तटीय व्यापार मार्गों के रास्ते यात्रा की। इस संदर्भ में किसानों ने कपास में विशेषज्ञता हासिल करना शुरू किया, जो काली ज्वालामुखी मिट्टी में पनपती है। 1500 तक, कपास और रेशम वस्त्र निर्माण, व व्यापार और खपत ने, उत्पादकों, स्पिनरों, बुनकरों, रंगरेजों, परिवाहकों बैंकरों, थोक और खुदरा विक्रेताओं जैसे कई विशेषज्ञों को स्वयं में शामिल किया। कपड़े के उपभोक्ता शुरू में शहरी केंद्रों में केंद्रित रहे, जहां शहरी व्यापारी, बैंकर, थोक व्यापारी और बुनकर वाणिज्यिक लेनदेन की जटिल श्रृंखला में महत्वपूर्ण कड़ी बन गए, जिसने विनिर्माण के पैमाने का विस्तार किया और तट के साथ समुद्र तक बढ़ा दिया।

सिक्केः पिछली अवधि की तुलना में दिल्ली सुल्तानों की अवधि के दौरान सिक्कों की संख्या में वृद्धि हुई, जो वाणिज्यिक लेनदेन में वृद्धि का संकेत देती है।

व्यापारी और उनकी गतिविधियाँः व्यापारियों और उनकी गतिविधियों के बारे बड़ी संख्या में सबूत उपलब्ध हैं। भारत ने फिर से फारस की खाड़ी और लाल सागर (पश्चिम एशिया) के देशों और दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों को भी वस्तुओं की बड़ी मात्रा का निर्यात शुरू कर दिया। तटीय और समुद्री व्यापार जैन मारवाड़ी और गुजराती, और मुस्लिम बोहरा व्यापारियों के हाथ में था। मध्य और पश्चिम-एशिया के साथ स्थल मार्ग व्यापार मुलतानी (मुख्य रूप से हिंदुओं) और खुरासानी (अफगान मुसलमानों) के हाथों में था। एक समकालीन इतिहासकार बरनी ने उनकी दौलत का एक उत्कृष्ट विवरण दिया है।

वाणिज्य बढ़ाने के लिए सुल्तानों के प्रयासः भारत के प्रमुख भागों के राजनीतिक एकीकरण ने राजनीतिक और आर्थिक बाधाओं को हटा दिया। दलाल या ब्रोकर्स की संस्था के उदय ने (दलाल, एक मध्यस्थ के रूप में कार्य करता है, जो, मूल अर्थ में अरबी है), बड़े पैमाने पर वाणिज्यिक लेनदेन में मदद की। नई सड़कों के निर्माण और पुरानी के रखरखाव ने सुचारु परिवहन और संचार में मदद की। व्यापारियों की सुविधा के लिए सड़कों पर सराय या विश्राम गृह बनाए गए।

11.0 प्रौद्योगिकीय परिवर्तन

सूती वस्त्र उद्योगः इसके उत्पादन में वृद्धि, चरखा, कपास धुनिया धनुष और बुनकर के पेंच जैसी कई नई तकनीकों की शुरूआत से प्रभावित हुई।

रेशम उद्योगः रेशम कीट पालन (रेशम के कीड़ों के पालन से कच्चे रेशम का उत्पादन) की शुरुआत से रेशमी कपड़े के उत्पादन में वृद्धि भी हुई। कच्चे रेशम के लिए ईरान और अफगानिस्तान पर, भारत की निर्भरता कम हुई।

कागज उद्योगः भारत में इसका उत्पादन तुर्कों द्वारा शुरू किया गया था, और 14 वीं और 15 वीं सदी से कागज का व्यापक उपयोग शुरू हुआ।

भवन निर्माण उद्योगः गुंबददार (धनुषाकार) छत और जोड़नेवाले चूने जैसी नई तकनीकों के परिचय ने बड़ी छतों वाली ईंट की संरचनाओं का निर्माण संभव बनाया।

अन्य शिल्पः सुल्तानों के अंतर्गत मांग की वृद्धि के कारण चमड़ा निर्माण, धातु काम, और कालीन बुनाई के उत्पादन में वृद्धि हुई। हालांकि, इन शिल्प में कोई महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकीय परिवर्तन नहीं हुए।

11.1 शहरी अर्थव्यवस्था में परिवर्तन के विभिन्न कारण

सबसे महत्वपूर्ण कारण इस्लामी पूरब से कारीगरों और व्यापारियों का भारत को आव्रजन था, जो उनके साथ उनके शिल्प, तकनीकों और प्रथाओं को लाये। दूसरे, बड़े पैमाने पर गुलामी के माध्यम से प्राप्त विनम्र शिक्षणीय श्रम की एक प्रचुर मात्रा में आपूर्ति। अंत में, दिल्ली के सुल्तानों ने एक राजस्व प्रणाली की स्थापना की, जिसके माध्यम से कृषि अधिशेष का एक बड़ा हिस्सा शहरों में खपत के लिए ग्रहणीय था।

इसमी जैसे समकालीन इतिहासकार हमें कारीगरों और व्यापारियों के भारत को आप्रवास का एक अच्छा विवरण देते हैं। सैन्य अभियानों में गुलामी के लिए प्राप्त बंधकों की बड़ी संख्या को, उन्हें बंधक बनाने वालों ने कारीगरों के रूप में प्रशिक्षित किया, और बाद में अपनी स्वतंत्रता प्राप्त करने या खरीदने के बाद वे मुक्त कारीगर बन गए। इस प्रकार, आव्रजन और गुलामी शहरी केंद्रों और शिल्प के विकास के लिए जिम्मेदार थे, और उनकी जीविका, नई भूमि -राजस्व प्रणाली की स्थापना के साथ राजस्व में वृद्धि के द्वारा प्रदान की गई। देश के अधिशेष का एक बड़ा हिस्सा, जो शासक वर्ग ने ग्रहण किया, इसका उपयोग उन्होंने शहरों में किया।

12.0 फारसी इतिहास

सामान्य गुणः विभिन्न मुस्लिम राजवंशों के साथ काम करने वाले कई समकालीन और अर्द्ध समकालीन फारसी इतिहास रहे हैं, जो हमें राजनीतिक और सैन्य घटनाओं संबंधित विवरण के अलावा स्थलाकृति और अधिक या कम भरोसेमंद कालक्रम पर विश्वसनीय जानकारी देते हैं। उनमें से कुछ मुस्लिम दुनिया के सामान्य इतिहास हैं, जिनमें मध्ययुगीन भारतीय इतिहास ने कुछ जगह बनाई है। लेकिन कई इतिहास मध्यकालीन भारत के इतिहास से सम्बंधित हैं। कुछ मामलों में, ये काम विशेष क्षेत्रों, राजवंशों या शासकों से ही सम्बंधित हैं।

मुख्य दोषः फारसी इतिहास दो प्रमुख दोषों से पीड़ित हैं। चूँकि लेखक आम तौर पर अदालत और शाही मेहरबानी पर निर्भर थे, इसलिए वे ऐतिहासिक घटनाओं का वस्तुपरक संस्करण नहीं दे पाये। इसके अलावा, कभी कभी वे, न केवल हिंदुओं के मामले में, बल्कि मुहम्मद तुगलक जैसे अपरंपरागत मुस्लिम शासकों के मामले में भी धार्मिक कट्टरपंथ में बह गए। दूसरे, उनका ध्यान दरबार और शिविर पर केंद्रित था; वे लोगों की हालत पर और सामाजिक-आर्थिक विकास में कम रुचि लेते थे।

तबकत-ई-नासिरी का लेखक मिन्हाज-उस-सिराज 1193 में पैदा हुआ था। उसने इल्तुतमिश के शासन में सरकारी सेवा में प्रवेश किया, और तेरहवीं शताब्दी के मध्य में दिल्ली के प्रमुख काज़ी के रूप में सेवा की। वह न्यायिक अधिकारी के साथ ही एक दरबारी भी थे। उन्होंने अपने इतिहास लेखन में जरूरी राजनीतिकविवेकाधिकार का प्रयोग किया।

  1. तबक़त आदम के दिनों से 1260 तक, जब यह पूरा कर लिया गया, इस्लामी इतिहास का एक संग्रह है। इसका नाम राज के सुल्तान, नसीरुद्दीन महमूद के नाम पर रखा गया था।
  2. वह भाग, जो सल्तनत के इतिहास का का वर्णन करता है, महत्वपूर्ण है, क्योंकि लेखक समकालीन थे और अवधि की घटनाओं के साथ निकट संपर्क में थे, और उन्होंने विभिन्न हलकों से जानकारी एकत्र करने का कष्ट उठाया।
  3. उन्होंने जो छोड़ा है, वह विशुद्ध रूप से राजनीतिक इतिहास पर एक काम के रूप में मूल्यवान है। यह गोरी के मुहम्मद और इल्तुतमिश के प्रमुख रईसों के अधिकांश के जीवनकाल का वर्णन करता है।
  4. जिनसे उसे एहसान प्राप्त हुआ, उन लोगों की वह प्रशंसा करता है, और खुद के दृष्टिकोण के अनुसार तथ्यों को दबाने या गलत प्रतिनिधित्व करने का प्रयास करता है। जिनके खिलाफ वह पक्षपातपूर्ण था, उन के जीवन के बारे में विवरण शामिल नहीं हैं। सांसारिक सफलता के लिए उलेमा द्वारा स्वार्थी साज़िश के चरित्र का सबसे बुरा पक्ष वह उजागर करता है।

जब उन्होंने अपने काम पूरा किया, उस समय ज़ियाउद्दीन बरनी 74 वर्ष के थे। एक सरकारी अधिकारी के बेटे, वह मुहम्मद तुगलक के शासनकाल में 17 वर्षों के लिए मुख्यालय में कार्यरत थे। फिरोज़ शाह तुगलक के नाम पर नामित बरनी की तारीख-ई-फिरोज़ शाही, सल्तनत की अवधि के दौरान लिखी गई सबसे मूल्यवान ऐतिहासिक पुस्तक है। यह बलबन के शासनकाल (1266) के पहले वर्ष के साथ शुरू होती है, तबक़त-ई-नासिरी की समाप्ति के बाद छह साल का एक स्पष्ट अंतर छोड़ने के बाद, फिरोज़ शाह तुगलक के शासनकाल (1357) के छठे वर्ष के साथ समाप्त होती है। बरनी ने एक और किताब, फतवा-ई-जहांदारी लिखी थी, जो सरकार के इस्लामी आदर्श पर बल के साथ राज्य के मामलों पर निर्देश का एक संग्रह है। इसमें कोई दार्शनिक गहराई या, यहां तक कि व्यावहारिक ज्ञान भी नहीं है।

  1. बरनी कहते हैं, एक इतिहासकार का कर्तव्य सच्चा, ईमानदार और निडर होना है। यदि किसी भी कारण से खुले तौर पर तथ्य पेश करना मुश्किल हो जाता है, तो निहितार्थ और सुझाव के माध्यम से परोक्ष रूप से उन्हें पेश करना चाहिए।
  2. उन्होंने कई मौकों पर दावा किया कि, जो कुछ भी उन्होंने लिखा है सच था, लेकिन फरिश्ता (एक सत्रहवीं सदी के इतिहासकार) ने सच्चाई छुपाने के लिए उसे दोषी ठहराया है। बरनी का एक गंभीर दोष कालक्रम के प्रति उदासीनता है। वह हमेशा कालानुक्रमिक क्रम में घटनाओं की व्यवस्था नहीं करता है।
  3. फिर, उनके कथन व्यवस्थित नहीं है और यह कुछ मामलों में अधूरे हैं। उदाहरण के लिए, मलिक काफूर के डेक्कन अभियान का उनका वर्णन बहुत संक्षिप्त और असंतोषजनक है। उन्होंने विभिन्न स्रोतों से जानकारी एकत्र की, विशेष रूप से दरबार के साथ जुड़े प्रमुख व्यक्तियों से। लेकिन उनमे समन्वय कम था।
  4. बरनी द्वारा इस्तेमाल एक विशेष पद्धति ‘संवाद‘ या ‘प्रवचन‘ को अभिलेखित करना है।
PT's IAS Academy, PT education, IAS, CSE, UPSC, Prelims, Mains, exam coaching, exam prep, Civil Services test


COMMENTS

Name

01-01-2020,1,04-08-2021,1,05-08-2021,1,06-08-2021,1,28-06-2021,1,Abrahamic religions,1,Afganistan,1,Afghanistan,31,Afghanitan,1,Afghansitan,1,Africa,2,Agriculture,110,Ancient and Medieval History,47,April 2020,25,April 2021,22,Architecture and Literature of India,11,Art Culture and Literature,1,Art Culture Entertainment,2,Art Culture Languages,3,Art Culture Literature,6,Art Literature Entertainment,1,Artforms and Artists,1,Article 370,1,Arts,11,Athletes and Sportspersons,1,August 2020,24,August 2021,239,August-2021,3,Awards and Honours,24,Awards and HonoursHuman Rights,1,Banking,1,Banking credit finance,3,Banking-credit-finance,5,Basic of Comprehension,2,Best Editorials,4,Biodiversity,41,Biotechnology,42,Biotechology,1,Centre State relations,19,China,73,Citizenship and immigration,9,Civils Tapasya - English,92,Climage Change,3,Climate and weather,41,Climate change,55,Climate Chantge,1,Commissions and Authorities,4,Constitution and Law,251,Constitutional and statutory roles,4,Constitutional issues,115,Cooperative,1,Cooperative Federalism,9,Coronavirus variants,7,Corruption and transparency,1,Costitutional issues,1,Covid,97,Covid Pandemic,1,COVID VIRUS NEW STRAIN DEC 2020,1,Crops,1,Cryptocurrencies,1,Cryptocurrency,7,Crytocurrency,1,Currencies,2,Daily Current Affairs,453,Daily MCQ,32,Daily MCQ Practice,498,Daily MCQ Practice - 17-03-2020,1,DCA-CS,286,December 2020,26,Decision Making,2,Defence and Militar,1,Defence and Military,190,Defence forces,1,Demography and Prosperity,2,Destitution and poverty,3,Discoveries and Inventions,8,Discovery and Inventions,1,Disoveries and Inventions,1,Economic & Social Development,2,Economic Bodies,1,Education,76,Education and employment,2,Educational institutions,2,Elections,7,Elections in India,14,Energy,89,English Comprehension,3,Entertainment Games and Sport,1,Entertainment Games and Sports,22,Entertainment Games and Sports – Athletes and sportspersons,1,Enviroment and Ecology,2,Environment and Ecology,196,Environment destruction,1,Environment Ecology and Climage Change,1,Environment Ecology and Climate Change,370,Environment Ecology Climate Change,1,Environment protection,1,Essay paper,575,Ethics and Values,26,EU,23,Europe,1,Europeans in India and important personalities,6,Evolution,4,Facts and Charts,4,Features of Indian economy,2,February 2020,25,February 2021,23,Federalism,2,Flora and fauna,2,Foreign affairs,483,Foreign exchange,7,Fossil fuels,1,Fundamentals of the Indian Economy,10,GDP GNP PPP etc,1,Geography,10,Global trade,3,Global warming,112,Goverment decisions,4,Governance and Institution,1,Governance and Institutions,517,Governance and Schemes,221,Governane and Institutions,1,Government decisions,172,Government Finances,2,Government Politics,1,Government schemes,275,GS I,93,GS II,66,GS III,38,GS IV,23,GST,8,Headlines,22,Health and medicine,1,Health and medicine,53,Healtha and Medicine,1,Healthcare,1,Healthcare and Medicine,53,Higher education,2,Hindu individual editorials,54,Hinduism,1,History,140,Honours and Awards,1,Human rights,171,Immigration,6,Immigration and citizenship,1,Important Concepts,33,Important Concepts.UPSC Mains GS III,1,Important Days,33,India,28,India Agriculture and related issues,1,India's Constitution,14,India's independence struggle,19,India's international relations,2,India’s international relations,4,Indian Agriculture and related issues,9,Indian and world media,3,Indian Economy,993,Indian Geography,1,Indian history,19,Indian judiciary,104,Indian Politics,400,Indian Polity,1,Indian Polity and Governance,2,Indian Society,1,Indias international affairs,1,Indias international relations,1,Indices and Statistics,94,Indices and Statstics,1,Industries and services,1,Inequalities,2,Inequality,88,Inflation,25,Infra projects and financing,1,Infrastructure,206,Infrastruture,1,Institutions,1,Institutions and bodies,226,Institutionsandbodies,1,Instiutions and Bodies,1,International Institutions,10,Internet,8,Inventions and discoveries,5,Issues on Environmental Ecology,3,IT and Computers,18,Italy,1,January 2020,26,January 2021,25,July 2020,5,July 2021,207,June,1,June 2020,45,June 2021,369,June-2021,1,Jurisprudence,12,Land reforms and productivity,2,Latest Current Affairs,944,Law and order,10,Legislature,1,Logical Reasoning,9,Major events in World History,16,March 2020,24,March 2021,23,Markets,156,Maths Theory Booklet,14,May 2020,24,May 2021,25,Meetings and Summits,23,Military and defence alliances,1,Miscellaneous,454,Modern History,3,Modern historym,1,Modern technologies,4,Monetary and financial policies,1,monsoon and climate change,1,Nanotechnology,2,Nationalism and protectionism,1,Natural disasters,5,New Laws and amendments,11,November 2020,22,Nuclear technology,11,October 2020,24,Oil economies,1,Pakistan,2,Pandemic,129,Parks reserves sanctuaries,1,Parliament and Assemblies,4,People and Persoanalities,2,People and Personalites,1,People and Personalities,128,Personalities,46,Planning and management,1,Political parties and leaders,8,Political philosophies,5,Political treaties,3,Polity,464,Pollution,33,Post independence India,5,Post-Governance in India,17,post-Independence India,19,Poverty,36,Prelims,1877,Prelims CSAT,30,Prelims GS I,7,Prelims Paper I,125,Products and innovations,1,Protectionism and Nationalism,7,Racism,1,Rainfall,1,Rainfall and Monsoon,2,RBI,64,Reformers,2,Regional Conflicts,13,Regional Economy,11,Regional leaders,4,Regional Politics,39,Regulatory bodies,8,Religion,15,Renewable energy,1,Reports,96,Reports and Rankings,119,Reservations and affirmative,1,Reservations and affirmative action,26,Russia,1,schemes,1,Science and Techmology,1,Science and Technology,689,Science and Tehcnology,1,Sciene and Technology,1,September 2020,26,September 2021,444,Social Issue,2,Social issues,1043,Social media,3,South Asia,5,Space technology,54,Statistics,2,Study material,280,Super powers,1,Super-powers,4,TAP 2020-21 Sessions,3,Taxation,33,Taxation and revenues,1,Technology and environmental issues in India,16,Telecom,1,Terroris,1,Terrorism,64,Terrorist acts,1,Terrorist organisations and leaders,3,The Hindu editorials analysis,58,Tournaments,1,Tournaments and competitions,3,Treaties and Alliances,1,Treaties and Protocols,16,Trivia and Miscalleneous,1,Trivia and miscellaneous,34,UN,98,United Nations,2,UPSC Mains GS I,486,UPSC Mains GS II,2917,UPSC Mains GS III,2367,UPSC Mains GS IV,159,US,59,USA,2,Warfare,2,World and Indian Geography,24,World Economy,311,World figures,15,World Geography,15,World History,20,World Poilitics,1,World Politics,425,WTO,1,WTO and regional pacts,1,अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं,10,गणित सिद्धान्त पुस्तिका,13,तार्किक कौशल,10,निर्णय क्षमता,2,नैतिकता और मौलिकता,24,प्रौद्योगिकी पर्यावरण मुद्दे,15,बोधगम्यता के मूल तत्व,2,भारत का प्राचीन एवं मध्यकालीन इतिहास,47,भारत का स्वतंत्रता संघर्ष,19,भारत में कला वास्तुकला एवं साहित्य,11,भारत में शासन,18,भारतीय कृषि एवं संबंधित मुद्दें,10,भारतीय संविधान,14,महत्वपूर्ण हस्तियां,6,यूपीएससी मुख्य परीक्षा,90,यूपीएससी मुख्य परीक्षा जीएस,117,यूरोपीय,6,विश्व इतिहास की मुख्य घटनाएं,16,विश्व एवं भारतीय भूगोल,24,स्टडी मटेरियल,265,स्वतंत्रता-पश्चात् भारत,14,
ltr
item
PT's IAS Academy: यूपीएससी तैयारी - भारत का प्राचीन एवं मध्यकालीन इतिहास - व्याख्यान - 38
यूपीएससी तैयारी - भारत का प्राचीन एवं मध्यकालीन इतिहास - व्याख्यान - 38
सभी सिविल सर्विस अभ्यर्थियों हेतु श्रेष्ठ स्टडी मटेरियल - पढाई शुरू करें - कर के दिखाएंगे!
https://1.bp.blogspot.com/-MM4CQFDCX2M/YQzOeO4jp_I/AAAAAAAAdZ4/weHaUBgbgRsE03dEXNdzeUyrxCAFcNLPwCLcBGAsYHQ/w400-h203/38_1.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-MM4CQFDCX2M/YQzOeO4jp_I/AAAAAAAAdZ4/weHaUBgbgRsE03dEXNdzeUyrxCAFcNLPwCLcBGAsYHQ/s72-w400-c-h203/38_1.jpg
PT's IAS Academy
https://civils.pteducation.com/2021/08/UPSC-IAS-exam-preparation-Ancient-and-Medieval-History-Lecture-38-Hindi.html
https://civils.pteducation.com/
https://civils.pteducation.com/
https://civils.pteducation.com/2021/08/UPSC-IAS-exam-preparation-Ancient-and-Medieval-History-Lecture-38-Hindi.html
true
8166813609053539671
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow TO READ FULL BODHI... Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy